भगवान नंबर दो

bhagwan no 2ईश्वर क बाद कुछ लोग मुल्क को भगवन नंबर दो मानते है तोह कुछ लोग दौलत को ।
भगवन की पदवी पा चुके पैसे क पीछे भाग रहे लोगों को , वेद प्रकाश शर्मा ने
इस उपन्यास में उनका अंजाम ऐसे अंदाज़ मैं बताने की कोशिश की है कि हर
हर पृष्ठ पर आपके रोंगटे खड़े हो जायेंगे |

46 thoughts on “भगवान नंबर दो

Leave a Reply

Your email address will not be published.