वतन की कसम

vatan ki kasamयह उपन्यास उन क्रांतिकारियों को वेदप्रकाश शर्मा की श्रद्धांजलि है, जो हिंदुस्तान की आज़ादी के लिए अंग्रेजी हुकूमत से लोहा-लोहा लेते शहीद हो गए लेकिन हम आज उनकी वजह से आज़ादी की हवा में सांस ले रहे है ।

72 thoughts on “वतन की कसम

  1. Tessa

    Thanks for sharing your thoughts. I really appreciate your efforts and I am waiting for your further write ups thank you once again.

Leave a Reply

Your email address will not be published.